सार्वभौमिक धर्म

सार्वभौमिक धर्म

सार्वभौमिक धर्म

मैं एक सार्वभौमिक धर्म को इस दुनिया में लाना चाहता हू जिसमे हिन्दुओ की सी दया भावना और सहनशीलता हो, इस्लाम का सा भाई चारा हो, ईसाई की सी सेवा भावना हो, बुद्ध की करुणा हो महावीर की अहिंसा हो। आज समाज की आवश्यकता है ऐसा धर्म। अगर हम पृथ्वी को आने वाले समाज को जीता हुआ, पनपता हुआ, खुशहाल देखना चाहते है तो यह अति आवश्यक है।